लालू प्रसाद
राष्ट्रीय

चारा घोटाला में दोषी करार दिये जाने के बाद, 24 घंटे में 4 गिलास ही पी सकते हैं पानी, जानें वजह

दिव्य संवाद, रांची : चारा घोटाला में दोषी करार दिये जाने के बाद लालू यादव को दूसरा बड़ा झटका लगा है। रिम्स में भर्ती लालू प्रसाद का इलाज कर रहे डॉक्टरों की टीम ने उनके हाई प्रोटीन वाले खाद्य पदार्थ और पीने के पानी पर पाबंदी लगा दी है। उन्हें खाने में मटन, चिकन, मछली, अंडा और पनीर नहीं देने को कहा गया है।

गुरु बना घंटाल, शिष्या का किया सत्यानाश

वहीं किडनी की विशेषज्ञ डॉक्टर ने 24 घंटे में अधिकतम तीन से चार गिलास (एक लीटर) पानी पीने और दो मिलीग्राम से कम नमक का उपयोग करने की सलाह दी है। लालू प्रसाद के खाने-पीने पर यह पांबदी गुरुवार को किडनी की इजीएफआर रिपोर्ट 18 आने के बाद लगायी गयी है। हालांकि डायलिसिस करने के संबंध में अभी डॉक्टर एक मत नहीं हैं।

उज्जवला योजना क्या है? What is Ujjwala Yojana

वहीं लालू यादव के हेटर्स का एवं व्हाट्सएप्प युनिवर्सिटी के प्रोफेसर्स का संदेश है की चारा जब ज्यादा खा लिया जाय तो पचने के लिए पानी की जरुरत होती है।

गुरुवार को लालू प्रसाद का बीपी और शुगर दोनों अनियंत्रित पाया गया। सुबह की जांच में शुगर का स्तर खाली पेट में 160 और बीपी का स्तर 164/90 मिला। शुगर का स्तर बढ़ा होने पर डॉक्टरों ने बीपी की दवा का डोज बढ़ा दिया है. लालू प्रसाद ने डॉक्टरों से पैर में दर्द और नींद की समस्या बतायी है। लालू प्रसाद ने गुुरुवार को नाश्ते के बाद लालू प्रसाद ने अंगूर खाने की इच्छा जतायी, जो उन्हें उपलब्ध करायी गयी।

पत्नी से एकतरफा प्यार के चलते दोस्त ने की थी हत्या।

लालू प्रसाद के इजीएफआर की रिपाेर्ट आ गयी है, जिसमें इजीएफआर 18 पाया गया है. किडनी की स्थिति को देखते हुए हाई प्रोटीन और नॉनवेज देना बंद कर दिया गया है. एक लीटर पानी और दो मिली ग्राम से कम नमक के इस्तेमाल की सलाह दी गयी है. हार्ट की जांच पहले की तरह सामान्य है.-डॉ विद्यापति, चेयरमैन, मेडिकल बोर्ड

Leave a Reply

Your email address will not be published.