कहानी

राजा भोज ने तुलसीदास को लिखा ऐसा जवाब, सुन सबके उरे होस

राजा भोज एक बहुत बड़े दानवीर थे। उनकी ये एक खास बात थी कि जब वो दान देने के लिए हाथ आगे बढ़ाते तो अपनी नज़रें नीचे झुका लेते थे।

ये बात सभी को अजीब लगती थी कि ये राजा कैसे दानवीर हैं। ये दान भी देते हैं और इन्हें शर्म भी आती है।

काली मंदिर के सामने चढ़ाया 6 साल के मासूम की बलि, फिर हुआ ये एक्सन

ये बात जब तुलसीदासजी तक पहुँची तो उन्होंने राजा भोज को चार पंक्तियाँ लिख भेजीं जिसमें लिखा था –

ऐसी देनी देन जु
कित सीखे हो सेन।
ज्यों ज्यों कर ऊँचौ करौ
त्यों त्यों नीचे नैन।।

इसका मतलब था कि राजा तुम ऐसा दान देना कहाँ से सीखे हो? जैसे जैसे तुम्हारे हाथ ऊपर उठते हैं वैसे वैसे तुम्हारी नज़रें तुम्हारे नैन नीचे क्यूँ झुक जाते हैं?

शादी के तीसरे दिन दुल्हन से बलात्कार, पति ने गर्म चिमटे से दागे, प्राइवेट पार्ट में लाठी डाली

राजा भोज ने इसके बदले में जो जवाब दिया वो जवाब इतना गजब का था कि जिसने भी सुना वो राजा का कायल हो गया।
इतना प्यारा जवाब आज तक किसी ने किसी को नहीं दिया।

राजा ने जवाब में लिखा –

देनहार कोई और है
भेजत जो दिन रैन।
लोग भरम हम पर करैं
तासौं नीचे नैन।।

मतलब, देने वाला तो कोई और है वो ईश्वर है वो परमात्मा है वो दिन रात भेज रहा है। परन्तु लोग ये समझते हैं कि मैं दे रहा हूँ राजा दे रहा है। ये सोच कर मुझे शर्म आ जाती है और मेरी आँखें नीचे झुक जाती हैं।

डायन कहकर महिला की हुई पिटाई, बसवरिया गांव का है मामला

वो ही करता और वो ही करवाता है, क्यों बंदे तू इतराता है,

एक साँस भी नही है तेरे बस की, वो ही सुलाता और वो ही जगाता है………

अगर हम अपनी महिलाओं के सम्मान की रक्षा नहीं कर सकते हैं, तो आप हमसे अपने देश के सम्मान की रक्षा की उम्मीद कैसे कर सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *