पूल बनाने के लिए ग्रामीणों ने संसद को दिया आवेदन संसद के खुलासे से ग्रामीण हैरान
क्षेत्रीय

पूल बनाने के लिए ग्रामीणों ने संसद को दिया आवेदन संसद के खुलासे से ग्रामीण हैरान

अररिया (गणपत कुमार), जिला के अररिया प्रखंड के रामपुर मोहनपुर पश्चिमी पंचायत में मोहनपुर घाट पर बारिश के मौसम में नदियों का जलस्तर बढ़ने से आवागमन पूरी तरह ठप हो जाया करती है। यहां पर न तो कोई नाव की व्यवस्था है, नाही नदी को पार करने के लिए कोई वैकल्पिक व्यवस्था की गई है। जिसके कारण ग्रामीणों ने अपनी इस पीड़ा से अवगत कराने अररिया संसदीय क्षेत्र के सांसद श्री प्रदीप सिंह से मिलने की ठानी। सभी ग्रामीणों ने एक सामूहिक आवेदन बनाकर परमान नदी के रामपुर मोहनपुर घाट पर पूल के निर्माण हेतु प्रार्थना पत्र सांसद महोदय को दिया।

इसके बाद सांसद महोदय ने ग्रामीणों को बताया कि परमान नदी के इस घाट पर पूल बनाने के लिए सरकार द्वारा टेंडर पूर्व में ही जारी कर दिया गया है, और यह पूल बनाने का कार्य एमके गुप्ता कंपनी कटिहार को दिया गया है। जिसे सुनकर ग्रामीण हैरान रह गए कि आखिर जब टेंडर पास कर ही दिया गया है और कार्य करने के लिए कंपनी को दे दिया गया है तो अब तक कोई कार्य शुरू क्यों नहीं हुआ। आखिर ग्रामीणों को बिना पूल के इस मझधार में क्यों छोड़ दिया गया। इस प्रकार कार्य बिना वजह रोककर रखना संदेहास्पद है।

सुशासन बाबू के राज में पीएलभी को हल्का कार्यालय में मिली जान से मारने की धमकी

बताते चलें कि यह वही जगह है जहां 2009 में नाव दुर्घटना के कारण 6 लोगों की मृत्यु हो गई थी। तत्पश्चात निवर्तमान विधायक एवं सांसद के द्वारा पूल निर्माण हेतु आश्वासन दिया गया था। 6 लोगों की बलि देने के बाद भी 12 साल पश्चात पुल का कार्य शुरू नहीं हो सका।

उपस्थित ग्रामीणों में मो0 अंजर रिजवान, शाहनवाज आलम, बेचन मंडल, मंजर आलम, शम्भू कुमार साह, सादिक आलम, मो0 मोइज, खुर्शीद आलम, तैय्यब आल, जमशेद आलम, रक़ीम आलम, तारिक अनवर, चंदन कुमार मंडल, नौशाद आलम, मो0 निहाल के अलावा सैकड़ो ग्रामीण उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *