रास्ता बंद
Technical G.K.

अब रास्ता बंद करना पड़ेगा महंगा, निजी हो या सरकारी, रास्ता मिलेगा, करें ये उपाय..

आपके घर तक या खेत जाने के लिए यदि रास्ता बंद कर दिया गया है, तो यह लेख आपके लिए है। इस लेख में हमने आपको बताया है कि यदि आपके खेत तक या आपके घर तक जाने के लिए सरकारी जमीन से होकर रास्ता हो या किसी के प्राइवेट जमीन से, आप रास्ता कैसे खुलवा सकते हैं?

हर राज्य में काश्तकारी कानून बनाया गया है। जिसमें हर राज्य अपना अपना प्रावधान रखा है। किंतु लगभग सभी राज्यों में समान कानून है। जिसके तहत आपके जमीन या घर तक जाने के लिए जो रास्ता पहले से बना हुआ था उन्हें कोई भी व्यक्ति बंद नहीं कर सकता है। चाहे वह सरकारी रास्ता हो या किसी व्यक्ति की निजी जमीन से होकर गई हो।

काली मंदिर के सामने चढ़ाया 6 साल के मासूम की बलि, फिर हुआ ये एक्सन

यदि कोई रास्ता बंद कर दे तो उसके लिए आपको सबसे पहले अंचलाधिकारी या तहसीलदार को आवेदन देना होता है। जिसकी प्रतिलिपि जिले के डीएम, एसडीओ, थानाध्यक्ष या और जिन्हें भी आप देना चाहें दे सकते हैं। आपको आवेदन सादे कागज पर लिखना होता है। जिसमें आपका अपना पूरा नाम पता, प्रतिवादी का विवरण जिसने रास्ता बंद किया है, कब बंद किया है इत्यादि बातों का जिक्र करना होता है। नीचे लिखे फॉर्मेट के अनुसार आप अपना आवेदन लिख सकते हैं।

रास्ता खुलवाने के लिए अंचलाधिकारी को आवेदन का नमूना

सेवा में
श्रीमान
अंचलाधिकारी अंचल भरगामा, जिला अररिया
विषय:- सरकारी सड़क से रास्ता खोलवाने के संबंध में
महाशय
निवेदन है कि मैं (your name), पिता-father’s name, ग्राम+पोस्ट-कुशमोल, वार्ड-तीन, थाना-भरगामा, जिला-अररिया का निवासी हूं। दिनांक 11-04-2018 को गांव के कुछ दबंगों द्वारा सरकारी सड़क जो मेरे दरवाजे तक है, को मेरे दरवाजे के पास खूंटा व बांस की टट्टी से घेर कर हम लोगों को सरकारी सड़क से निकलना बंद कर दिया। इस बाबत मैंने रास्ता खुलवाने एवं कानूनी कार्रवाई करने हेतु एक लिखित आवेदन थाना भरगामा थाना पदाधिकारी को दिया (छाया प्रति संलग्न)। किंतु अब तक रास्ता नहीं खुलवाया गया ना ही कोई कानूनी कार्रवाई की गई। हम लोगों को घर से निकलने हेतु एकमात्र कच्ची सड़क है। इसके अलावा अन्य कोई रास्ता नहीं है। हमारा पूरा परिवार को घर के पीछे से दूसरे लोगों के फसल वाली निजी भूमि से निकलना पड़ता है।
अतः श्रीमान से अनुरोध है कि सरकारी सड़क से घेरा हटाने की कृपा करें।
इसके लिए मैं श्रीमान का सदा आभारी रहूंगा।
संलग्न-यथोक्त प्रार्थी

प्रतिलिपि

उप मंडल अधिकारी फारबिसगंज जिला अररिया

जिला पदाधिकारी महोदय जिला अररिया

थानाध्यक्ष भरगामा थाना

पुलिस अधीक्षक अररिया

उक्त आवेदन एक उदाहरण के लिए हैं। आप इन्हें देख कर समझ सकते हैं और आप अपने वास्तविक घटना एवं समस्या का जिक्र कर अपने क्षेत्र के अंचलाधिकारी को आवेदन दे सकते हैं।
अंचलाधिकारी या तहसीलदार को या अधिकार दिया गया है कि वह फोर्स फुल्ली घटनास्थल का निरीक्षण कर आपके रास्ता को खुलवा सकता है। आवेदन देना आपका काम है किंतु कार्रवाई करें या न करें यह अंचल अधिकारी का है।

अमीन से नापी के बाद जमीन पर कब्जा कैसे करें

यदि आप का रास्ता अंचलाधिकारी के द्वारा खुलवा दिया जाता है तो आपके समस्या का समाधान हो चुका होता है किंतु यदि अंचलाधिकारी टालमटोल करें या रास्ता करवाने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाए तब आपको अंचलाधिकारी के आवेदन की छाया प्रति के साथ एक वकील रखना होता है और उसके बाद आप एसडीएम कोर्ट में केस फाइल करते हैं। करने के बाद संबंधित विपक्षियों को नोटिस जाता है और सुनवाई के लिए बुलाया जाता है।

दोनों पक्षों को सुनने, तथ्यों को देखने, अंचल अधिकारी द्वारा समर्पित जांच प्रतिवेदन एवं अन्य कागजातों के अवलोकन के पश्चात यदि एसडीएम यह पता है कि वह जमीन सरकारी है। जिससे रास्ता गई है तो वह एक आदेश जारी करता है। जिसके तहत अंचल अधिकारी व थानाध्यक्ष को रास्ता खुलवाने के लिए कहा जाता है।

जमीन का नक्शा कैसे निकाले || भू नक्शा||

किंतु यदि वह या पाता है के विवादित रास्ता किसी के निजी जमीन से होकर गई है तो तो उसके लिए आपको रास्ता तो दिया जाता है। किंतु कुछ रेंट निर्धारित करता है जो आपको उस जमींदार को देना होता है। जिसके निजी जमीन से होकर आपको रास्ता दिया गया है। यह रास्ता आपको उस ओर से मिलेगी जिस ओर से आपके जमीन या घर तक पहुंचने के लिए कम निजी जमीन से होकर जाना पड़े।

वीडियो में समझने के लिए नीचे क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *